प्रकाशित / प्रकाशन हेतु प्रेषित अनुसंधान पत्र

राष्ट्रीय शर्करा संस्थान के शिक्षण संकाय सदस्यों द्वारा वर्तमान अकादमिक सत्र के दौरान निम्न अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया / प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।



अनुसंधान पत्र अक्तूबर से दिसंबर 2019 -


1) A research paper entitled “Innovative Futuristic Approach for Sustainable Sugar Industry” by Narendra Mohan & Anushka Agarwal published in International Journal of Innovative Science & Research Technology. Volume 4, Issue 11, November – 2019.

2) A research paper entitled “Sustainability of Sugar Industry in Northern Region – Sugar Production & Beyond” by Narendra Mohan, Director published in National workshop on “Sugarcane Challenges and Future Strategies for Doubling Farmers Income” at IISR, Lucknow.

3) A paper abstract “Direct Use of Sugarcane Bagasse Derived Hemicellulose Hydrolysis Hydrolysate for the Synthesis of C-glycosyl Derivative by the Lubineau Reaction” by Dr. V.P. Srivastava, Tushar Mishra & Narendra Mohan sent for 26th ISCB International Conference (ISCBC – 2020)to be held from 22nd to 24th January, 2020 at Nirma University, Ahmadabad, Gujarat.

4) A research paper entitled “Surfactants in Modern Applications” by Narendra Mohan published in IJSRD - International Journal for Scientific Research & Development| Vol. 7, Issue 09, Nov. 2019 | ISSN (online): 2321-0613

5) “A Study on Probable Configurations of Cascaded H-Bridge Multilevel Converters for Slip Power Recovery Application in Sugar Industry” by Vinay Kumar & Sanjiv Kumar, sent for publication in ICE3 2020 International Conference on Electrical and Electronics Engineering, to be held on 14-15th February, 2020 at MMMUT Gorakhpur, U.P.

6) “Reduction, Reuse and Recycling of Fresh Water Usage and Mitigation of Effluent Generation in Sugar Industry” by Vinay Kumar & D. Swain, published in IC WEB BIMSTEC – 2019, held on 14th December, 2019 at Agartala, Tripura.

7) “Bio-refinery Process for Valorization of Sugarcane Biomass: from Constituents Sugars and Lignols to Value Added Products” by V.P. Srivastava, Tushar Mihsra & N. Mohan accepted for presentation at the 2nd International Conference and Exhibition on “Sustainability – Innovation and Diversification in Sugar and Allied Industry” to be held on 31st January to 2nd February, 2020 at Vasantdada Sugar Institute, Pune, Maharashtra.

8) “Sugar Beet – A Potential Feed Stock for Ethanol Production” by Prof. Narendra Mohan published in Sharkara, October – December, 2019.


अनुसंधान पत्र जुलाई से सितंबर 2019 -


1) “Bio-Energy from Filter Cake” by Sanjay Awasthi, Seema Paroha & Narendra Mohan published in 77th Annual Convention and International Sugar Expo of Sugar Technologists’ Association of India held on 17-19th July 2019 at Kolkata.

2) “Effect of Potassium Application on Nutrient Uptake, Yield and Quality of Sugarcane & Sustainable Soil Health” by Ashok Kumar, Lokesh Babar, Narendra Mohan & Surinder Kumar Bansal published in Indian Journal of Fertilizers in July, 2019.

3) “Utilization of Sugarcane Bagasse as Dietary Fibre” by Neelam Chaturvedi, V. P. Srivastava, Seema Paroha & Narendra published in 77th Annual Convention and International Sugar Expo of Sugar Technologists’ Association of India held on 17-19th July 2019 at Kolkata.

4) “Moisture Reduction in Bagasse with Minimum Investment” by Sanjay Chauhan & Narendra Mohan published in 7th Bharatiya Sugar Symposium 2019”, organized in July 2019 at Kolhapur, Maharashtra.

5) “Valorization of Sugarcane Bagasse as a Potential Feedstock to Access Cosmetic Ingredients” by Narendra Mohan, V.P. Srivastva & Tushar Mishra published in “77th Annual Convention and International Sugar Expo of Sugar Technologists’ Association of India” held on 17-19th July 2019 at Kolkata.

6) “A 3 – Level Invertor based Induction Motor Drive for Cane Preparation in Sugar Industry” by Vinay Kumar & Sanjiv Kumar sent for publication in IEEE sponsored 2nd International and Intelligent Control seminar to be held on 18-19 October, 2019 at Greater Noida.

7) “Measures for Indian Sugar Quality Improvement” by Narendra Mohan, A.K. Garg & Mohit Kumar, was presented in the National Seminar on "Indian Sugars- Standardization & Quality Considerations" jointly organized by NSI-BIS-Maarc Labs. on 26th September, 2019 at NSI, Kanpur.

8) “Sugar Quality: Requirements of Institutional and Retail Customers” by V.P. Singh, was presented in the National Seminar on "Indian Sugars- Standardization & Quality Considerations" jointly organized by NSI-BISMaarc Labs. on 26th September, 2019 at NSI, Kanpur.

9) “Quality Management – Important aspect for Indian Sugar Industry” by Narendra Mohan, M.K. Yadav & Km. Anushka Agrawal, was presented in the National Seminar on "Indian Sugars- Standardization & Quality Considerations" jointly organized by NSI-BIS Maarc Labs. on 26th September, 2019 at NSI, Kanpur.

10) “Review of Milling Efficiency” by D. Swain was presented in “77th Annual Convention and International Sugar Expo of Sugar Technologists’ Association of India” held on 17-19th July 2019 at Kolkata.


अनुसंधान पत्र अप्रैल से जून 2019 -


1) “Bioenergy from Filter Cake” by Narendra Mohan presented during National Seminar jointly organized by SNSI & NSI on 12th April, 2019 at Belagavi, Karnataka.

2) “Biomass Energy from Sugar Industry” by Narendra Mohan & A.K. Kanaujia presented during National Seminar jointly organized by SNSI & NSI on 12th April, 2019 at Belagavi, Karnataka.

3) “A Novel Multi-level SVPMW Scheme for High Power Induction Motor Drive Applications” by Anoop Kumar Kanaujia, Sanjiv Kumar & D. Swain published in International Conference on Academic Science and Engineering (ICASAE – 2019) held on 7-8th June, 2019 at Lucknow.

4) “Effect of Potassium Application on Nutrient Uptake, Yield and Quality of Sugarcane & Sustainable Soil Health” by Ashok Kumar, Lokesh Babar, Narendra Mohan & Surinder Kumar Bansal sent for publication in Indian Journal of Fertilizers to be published in July, 2019.

5) “Mechanical Clarification of Cane Juice with the Help of High Speed Centrifuge Machine” by Mohit Kumar, Subhash Chandra, A.K. Garg & Narendra Mohan published in 4th Annual Convention of North Indian Sugarcane & Sugar Technologists’ Association (NISSTA) held on 29-30th May, 2019 at NSI, Kanpur

6) “Observation on Working of Super Short Retention Time Clarifier” by M. Mandal & A.K. Shukla published in 4th Annual Convention of North Indian Sugarcane & Sugar Technologists’ Association (NISSTA) held on 29-30th May, 2019 at NSI, Kanpur.

7) “Green Power, An Unexploited Potential in Indian Sugar Industry – A Review” by Narendra Mohan & Anoop Kumar Kanaujia published in 4th Annual Convention of North Indian Sugarcane & Sugar Technologists’ Association (NISSTA) held on 29-30th May, 2019 at NSI, Kanpur.

8) “A Novel Effluent Treatment Process for Plantation White Sugar Factories” by Amresh Pratap Singh, Mahendra Yadav& Narendra Mohan published in 4th Annual Convention of North Indian Sugarcane & Sugar Technologists’ Association (NISSTA) held on 29-30th May, 2019 at NSI, Kanpur.

9) “Real Time Monitoring for Efficient Water management” by Brajesh Singh, Mahendra Pratap Singh & Virendra Kumar published in 4th Annual Convention of North Indian Sugarcane & Sugar Technologists’ Association (NISSTA) held on 29-30th May, 2019 at NSI, Kanpur.

10) “Integrated Nutrient Management for Maximum Economic Yield of Sugar Beet and Sustainable Soil Health” by Ashok Kumar, Lokesh Babar & Tej Pal Verma published in 4th Annual Convention of North Indian Sugarcane & Sugar Technologists’ Association (NISSTA) held on 29-30th May, 2019 at NSI, Kanpur.

11) “Bio-Energy from Filter Cake” by Sanjay Awasthi, Seema Paroha & Narendra Mohan accepted for publication in 77th Annual Convention and International Sugar Expo of Sugar Technologists’ Association of India to be held on 17-19th July 2019 at Kolkata.

12) “Utilization of Sugarcane Bagasse as Dietary Fibre” by Neelam Chaturvedi, V. P. Srivastava, Seema Paroha & Narendra Mohan accepted for publication in 77thAnnual Convention and International Sugar Expo of Sugar Technologists’ Association of India to be held on 17-19th July 2019 at Kolkata.

13) “Moisture Reduction in Bagasse with Minimum Investment” by Sanjay Chauhan & Narendra Mohan sent for publication in the proceedings of the 7th symposium of Bharatiya Sugar 2019 at Kolhapur

14) “Cane Juice Centrifugation for Superior Quality Sugar” by Mohit Kumar, Subhash Chandra, A.K.Garg& Narendra Mohan sent for publication in the proceedings of the 7th symposium of Bharatiya Sugar2019 to be held at Kolhapur.


अनुसंधान पत्र – जनवरी से मार्च 2019 -


1) “Sustainability of Sugar Industry – Sugar Production and Beyond by Narendra Mohan was presented in Sugarcon-2019 held at IISR, Lucknow from 16-19th February, 2019.

2) “Sugarcane as Energy cane, an Enormous Source of Bioenergy” by Narendra Mohan & D. Swain have been accepted for presentation in International Conference on Biofuels and Bioenergy to be held at San Francisco, CA, USA from 29th April to 01st May, 2019.

3) “Effect of Potassium Application on Nutrient Uptake, Yield and Quality of Sugarcane & Sustainable Soil Health” by Narendra Mohan, Ashok Kumar & Lokesh Babar published in International Journal of Green Farming volume - 10 no.1 page - 105- 107.

4) “Biomass Energy for Economic & Environmental Sustainability in India” by Narendra Mohan & Anoop Kumar Kanaujia published in Sugar Technology-An International Journal of Sugar Crops and related industries

5) “Experiences with B- Heavy Molasses Diversion for Ethanol Production” by Narendra Mohan, D. Swain & Dr. Seema Paroha presented during Technical Seminar organized by All India Distiller’s Association on 7 - 8th February, 2019 at New Delhi.

6) “Sugar Production to Meet Consumer Preferences” by Narendra Mohan presented during “Sugarcon-2019” on 16-19th February, 2019 at IISR, Lucknow, U.P.

7) “Techno Economic Viability of Ethanol Production from B- Heavy Route” by Narendra Mohan, D. Swain & Dr. Seema Paroha presented during national seminar jointly organized by NSI- NFSC on “Ethanol- Policy, Productivity & Profitability on 28th Feb, 2019 at New Delhi.

8) “Mill Efficiency Improvement” by D. Swain presented during seminar organized by J. P. Mukherji & Associates Pvt. Ltd., Pune jointly with Lal Bahadur Shastri Ganna Kisan Sansthan on 30th March, 2019 at Lucknow, U.P.

9) “Efficient Milling” by D. Swain presented during seminar organized by J. P. Mukherji & Associates Pvt. Ltd., Pune on 28th March, 2019 at Meerut, U.P.


अनुसंधान पत्र – अक्तूबर से दिसंबर 2018 -


1) “ गन्ना रस तथा बी हेवी शीरा का ईथनोल उत्पादन मे अन्य फीडस्टॉक के रूप मे प्रयोग की तकनीकी एवं आर्थिक उपयोगिता ” विषय पर राष्ट्रीय शर्करा संस्थान, कानपुर मे 16 अक्तूबर को आयोजित कार्यक्रम मे “ ईथनोल उत्पादन के लाभ ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं डाक्टर स्वेन के द्वारा प्रस्तुत किया गया।

2) दिनांक 31 अक्तूबर, 2018 को, आसवनियों / ईथनोल परियोजनाओं के विकास के लिए आयोजित एकदिवसीय सम्मेलन मे “ अंतिम रूप से प्राप्त शिरा बनाम बी हेवी शीरा तथा गन्ना रस” विषय पर अनुसंधान पत्र श्री डाक्टर स्वेन के द्वारा प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन को- जेनरेशन एसोसिएशन ऑफ इंडिया के सहयोग से कानपुर मे किया गया था।

3) “भारतीय एवं वैश्विक परिपेक्ष्य मे गुणवत्ता निर्धारण एवं पैकेजिंग संबन्धित आवश्यकतायें” विषय पर अनुसंधान पत्र अनुष्का अग्रवाल एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा “शर्करा प्रौद्योगिकी” नामक – गन्ना उत्पाद एवं संबन्धित उद्योग से संबन्धित एक अंतराष्ट्रीय जर्नल मे लेख प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।

4) “गन्ना की गुणवत्ता, उत्पादकता एवं संपोषणीय मृदा स्वास्थ्य पर पोटेशियम पोषकता का प्रभाव” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन, अशोक कुमार एवं लोकेश बाबर के द्वारा हरित खेती से संबन्धित अंतराष्ट्रीय जर्नल मे लेख प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।

5) “चुकंदर के उन्नत उत्पादन मे संवर्धित पोषकता प्रबंधन एवं संपोषणीय मृदा स्वास्थ्य” विषय पर अनुसंधान पत्र अशोक कुमार एवं लोकेश बाबर के द्वारा पौध-विज्ञान अनुसंधान से संबन्धित अंतराष्ट्रीय जर्नल मे लेख प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।

6) “एक रिड्यूस्ड स्विच काउंट पर आधारित हाइब्रिड फिफ़्टिन लेवल इनवर्टर जिससे ओपन एंड वाईंडिंग इंडकशन क्षमता प्राप्त की जा सके” विषय पर अनुसंधान पत्र अनूप कुमार कनौजिया एवं संजीव कुमार के द्वारा दिनांक 13-15 दिसंबर, 2018 को जयपुर मे पावर इलेक्ट्रॉनिक्स पर आयोजित IEEE के अंतराष्ट्रीय सम्मेलन (IIPCPE2018) मे प्रस्तुत किया गया।

7) “भारत के आर्थिक एवं संपोषणीय पर्यावरणीय विकास मे जैव-ऊर्जा का उपयोग” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं अनूप कुमार कनौजिया के द्वारा “शर्करा प्रौद्योगिकी” नामक – गन्ना उत्पाद एवं संबन्धित उद्योग से संबन्धित एक अंतराष्ट्रीय जर्नल मे लेख प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।

8) “भारतीय शर्करा फैक्ट्रियों मे जन एवं वाहित जल प्रबंधन – एक नवीन प्रयास” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन, महेंद्र यादव एवं अमरेश प्रताप सिंह के द्वारा ISSCT कॉंग्रेस 2019 मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।

9) “शर्करा फैक्ट्रियों मे प्रयुक्त प्रीपेरोट्री डिवाइस मोटर के लिए एक कुशल स्टेटिक रोटर-रजिस्टेंश कंट्रोल” विषय पर अनुसंधान पत्र विनय कुमार के द्वारा 33 वें भारतीय प्रौद्योगिकी कॉंग्रेस मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 22 दिसंबर, 2018 को उदयपुर मे किया गया था।

10) “उपभोक्ता चयन एवं स्वास्थ्य जरूरतों के अनुकूल शर्करा उत्पादन” विषय पर अनुसंधान पत्र अनुष्का अग्रवाल एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा खाद्य पोषण एवं स्वास्थ्य से संबन्धित अमेरिकन जर्नल मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।

11) “ जैव ऊर्जा एवं क्षमता – भारतीय शर्करा उद्योग के संपोषणीय विकास के मूलभूत तत्व” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं डाक्टर स्वेन के द्वारा ISSCT कॉंग्रेस 2019 मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।

12) “भारतीय शर्करा उद्योग के सतत विकास मे बी हेवी शीरा से ईथनोल का उत्पादन” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन, डाक्टर स्वेन एवं सीमा परोहा के द्वारा ISSCT कॉंग्रेस 2019 मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।

13) “गन्ना बायोमास आधारित जायलन से एल्कायल ग्लाइकोसाइड का उन्नयन के माध्यम से जैव रिफाइनरी का विकास” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन, डॉ वी पी श्रीवास्तव एवं अनुष्का अग्रवाल के द्वारा ISSCT कॉंग्रेस 2019 मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।


अनुसंधान पत्र - जुलाई से सितंबर 2018 -


1) “केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मानकों के अनुरूप चीनी मिलों मे श्वेत शर्करा उत्पादन के दौरान वाहित जल शोधन प्रक्रिया का विकास” विषय पर नीलम दीक्षित, अमरेश प्रताप एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा भारतीय शर्करा संगोष्ठी के 6 वीं वार्षिक सम्मेलन मे अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया, जिसका आयोजन दिनांक 14 – 15 जुलाई 2018 को कोल्हापूर मे किया गया।

2) “पर्यावरण अनुकूल तरल डिटर्जेंट बनाने मे गन्ना अपशिष्ठ का कच्चे माल के रूप मे प्रयोग पर अध्ययन” विषय पर नरेंद्र मोहन, विष्णु प्रभाकर श्रीवास्तव एवं अनुष्का अग्रवाल के द्वारा दक्कन शुगर टेक्नोलोजिस्ट एसोसिएसन के 64 वें वार्षिक अधिवेशन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, जिसका आयोजन 28-29 जुलाई 2018 को गांधीनगर, गुजरात मे किया गया था।

3) “इथनोल उत्पादन : अवसर एवं चुनौतियाँ” विषय पर नरेंद्र मोहन के द्वारा भारतीय शर्करा के 6 वीं वार्षिक संगोष्ठी मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, जिसका आयोजन 14-15 जुलाई 2018 को कोल्हापूर मे किया गया था।

4) “शर्करा गर्द विस्फोट- एक अध्ययन, रोकथाम एवं बचाव के उपाय” विषय पर संजय चौहान एवं जितेंद्र सिंह के द्वारा शर्करा पत्रिका के अप्रैल-जून 2018 के अंक मे लेख प्रकाशित किया गया।

5) “बेकार / खराब हो चुके गन्ना-रस से खमीर का उत्पादन” विषय पर विनितांजली बनर्जी, संतोष कुमार एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा शुगर टेक्नोलोजिस्ट एसोसिएसन ऑफ इंडिया के 76 वें वार्षिक अधिवेशन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, जिसका आयोजन 20 से 22 अगस्त 2018 को इंदौर मे किया गया था।

6) “चीनी मिल ड्राइव अनुप्रयोगों के अंतर्गत मल्टी लेवल इन्वर्टर आधारित टॉपोलॉजी का विकास” विषय पर अनूप कनौजिया, संजीव कुमार एवं डाक्टर स्वेन के द्वारा शुगर टेक्नोलोजिस्ट एसोसिएसन ऑफ इंडिया के 76 वें वार्षिक अधिवेशन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, जिसका आयोजन 20 से 22 अगस्त 2018 को इंदौर मे किया गया था।

7) “ कच्चे मस्कट बॉयलिंग के लिए ऊर्ध्वाधर कंटिन्युअस पैन के ऊपर अध्ययन” विषय पर नरेंद्र मोहन, आशुतोष बाजपेयी एवं सुभाष चन्द्र के द्वारा शुगर टेक्नोलोजिस्ट एसोसिएसन ऑफ इंडिया के 76 वें वार्षिक अधिवेशन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, जिसका आयोजन 20 से 22 अगस्त 2018 को इंदौर मे किया गया था।

8) “शर्करा की गुणवत्ता मे सुधार हेतु उत्पादन के दौरान अल्कोहल उत्पादन प्रक्रम” विषय पर नरेंद्र मोहन, डॉ आशुतोष बाजपेयी एवं महेंद्र प्रताप सिंह के द्वारा शुगर टेक्नोलोजिस्ट एसोसिएसन ऑफ इंडिया के 76 वें वार्षिक अधिवेशन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, जिसका आयोजन 20 से 22 अगस्त 2018 को इंदौर मे किया गया था।

9) “फोस्फोटेशन रिफाइनरी का कार्बोनेशन प्रक्रम : एक प्रायोगिक दृष्टिकोण” विषय पर नरेंद्र मोहन, महेंद्र यादव एवं वी पी सिंह के द्वारा एक दिवसीय कार्यक्रम मे 15 सितंबर 2018 को अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन राष्ट्रीय शर्करा संस्थान, कानपुर एवं निरानी शुगर लिमिटेड द्वारा आयोजित मुढोल कर्नाटक मे किया गया था।

10) “शर्करा फैक्ट्री से निकले वाहित/ दूषित जल का शोधन एक नवीन प्रयास” विषय पर अमरेश प्रताप सिंह, महेंद्र कुमार एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा कर्नाटक के बेलगावी मे आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया।

11) “भारतीय शर्करा उद्योग मे वाहित/ दूषित जल निकास एवं उसका शोधन” विषय पर महेंद्र कुमार यादव, जे पी श्रीवास्तव एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा कर्नाटक के बेलगावी मे आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया।


अनुसंधान पत्र – अप्रैल से जून 2018 -


1) “भारतीय शर्करा उद्योग मे वाहित/ दूषित जल निकास एवं शोधन – एक झलक” विषय पर अनुसंधान पत्र महेंद्र यादव, जे पी श्रीवास्तव एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा दिनांक 27 अप्रैल 2018 को एक सेमिनार मे प्रस्तुत किया गया जिसका आयोजन राष्ट्रीय शर्करा संस्थान एवं एस निजालिंगप्पा के द्वारा कर्नाटक के बेलगावी मे किया गया था।

2) “इलेक्ट्रोकोगुलेशन तकनीक के द्वारा वाहित/ दूषित जल का शोधन जिससे केन्द्रीय प्रदूषण बोर्ड के अनुरूप बनाया जा सके” विषय पर अनुसंधान पत्र विमलेश मिश्रा, अमरेश प्रताप, महेंद्र यादव एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा दिनांक 27 अप्रैल 2018 को एक सेमिनार मे प्रस्तुत किया गया जिसका आयोजन राष्ट्रीय शर्करा संस्थान एवं एस निजालिंगप्पा के द्वारा कर्नाटक के बेलगावी मे किया गया था।

3) “ईथनोल उत्पादन की संभावनाएं एवं चुनौतियाँ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन के द्वारा अखिल भारतीय डिस्टलरी एसोसिएसन के एक सेमिनार मे प्रस्तुत किया गया जिसका आयोजन नई दिल्ली मे दिनांक 26-27 अप्रैल 2018 को किया गया।

4) “भारतीय शर्करा उद्योग मे मूल्य प्रभावी शर्करा उत्पादन एवं अन्य उपायों से स्थिरता” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन के द्वारा मेसर्स ई आई डी पेरी द्वारा आयोजित वार्षिक व्यावसायिक सम्मेलन मे प्रस्तुत किया गया जिसका आयोजन बंगलुरु मे दिनांक 26-20 अप्रैल 2018 को किया गया।

5) “खराब गन्ना-रस से खमीर का उत्पादन” विषय पर अनुसंधान पत्र विनितांजली बनर्जी, संतोष कुमार एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा शुगर टेक्नोलोजिस्ट एसोसिएसन ऑफ इंडिया के 76 वें वार्षिक अधिवेशन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, जिसका आयोजन 20 से 22 अगस्त 2018 को इंदौर मे किया गया था।

6) “वाहित/ दूषित जल का शोधन प्रक्रिया, एवं श्वेत शर्करा का उत्पादन जिसे केन्द्रीय प्रदूषण बोर्ड के अनुरूप बनाया जा सके” विषय पर अनुसंधान पत्र नीलम दीक्षित, अमरेश प्रताप एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा भारतीय शर्करा संगोष्ठी 6 वीं वार्षिक सम्मेलन मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया जिसका आयोजन कोल्हापूर मे 14- 15 जुलाई 2018 को किया जाना है।

7) “चीनी मिल ड्राइव अनुप्रयोगों के अंतर्गत मल्टी लेवल इन्वर्टर आधारित टॉपोलॉजी का विकास” विषय पर अनूप कनौजिया, संजीव कुमार एवं डाक्टर स्वेन के द्वारा शुगर टेक्नोलोजिस्ट एसोसिएसन ऑफ इंडिया के 76 वें वार्षिक अधिवेशन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, जिसका आयोजन 20 से 22 अगस्त 2018 को इंदौर मे किया गया था।

8) “भारत मे गन्ना के मूल्य का निर्धारण तथा उन्नत नस्ल का विकास” विषय पर नरेंद्र मोहन, डाक्टर स्वेन, एवं प्रियंका सिंह के द्वारा शुगर टेक्नोलोजिस्ट एसोसिएसन ऑफ इंडिया के 76 वें वार्षिक अधिवेशन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया, जिसका आयोजन 20 से 22 अगस्त 2018 को इंदौर मे किया जाना है।

9) “कच्चे मस्कट बॉयलिंग के लिए ऊर्ध्वाधर कंटिन्युअस पैन के ऊपर अध्ययन” विषय पर नरेंद्र मोहन, आशुतोष बाजपेयी एवं सुभाष चन्द्र के द्वारा शुगर टेक्नोलोजिस्ट एसोसिएसन ऑफ इंडिया के 76 वें वार्षिक अधिवेशन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित करने के लिए प्रेषित किया गया, जिसका आयोजन 20 से 22 अगस्त 2018 को इंदौर मे किया जाना है।

10) “पर्यावरण अनुकूल तरल डिटर्जेंट बनाने मे गन्ना अपशिष्ठ का कच्चे माल के रूप मे प्रयोग पर अध्ययन” विषय पर नरेंद्र मोहन, विष्णु प्रभाकर श्रीवास्तव एवं अनुष्का अग्रवाल के द्वारा दक्कन शुगर टेक्नोलोजिस्ट एसोसिएसन के 64 वें वार्षिक अधिवेशन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित करने के लिए प्रेषित किया गया, जिसका आयोजन 28-29 जुलाई 2018 को गांधीनगर, गुजरात मे किया जाना है।

11) “शर्करा उद्योग के वाहित/ दूषित जल के शोधन की नवीन प्रक्रिया” विषय पर अमरेश प्रताप सिंह, महेंद्र कुमार यादव एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा एस आई एस एस टी ए के अगस्त 2018 मे आयोजित होने वाले 48 वीं वार्षिक सम्मेलन मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।

12) “इथनोल उत्पादन : अवसर एवं चुनौतियाँ” विषय पर नरेंद्र मोहन के द्वारा भारतीय शर्करा के 6 वीं वार्षिक संगोष्ठी मे अनुसंधान पत्र प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया, जिसका आयोजन 14-15 जुलाई 2018 को कोल्हापूर मे किया जाना है।


अनुसंधान पत्र – जनवरी से मार्च 2018 -


1) “गन्ना आधारित लिंगोसेलुलोज से पोट-एफ़िसिएंट तकनीक से नवीकरणीय सर्फ़ेक्सेंट का उत्पादन” विषय पर नरेंद्र मोहन, विष्णु प्रभाकर श्रीवास्तव एवं अनुष्का अग्रवाल के द्वारा भारतीय रसायन शोध संगठन के 22 वें राष्ट्रीय संगोष्ठी मे प्रस्तुत किया गया जिसका आयोजन 2-4 फरवरी 2018 को छतीसगढ़ के रायपुर स्थित पंडित रवि शंकर शुक्ला विश्वविद्यालय के द्वारा रसायन विभाग मे किया गया था।

2) “शर्करा के विकल्प : प्रोत्साहन, प्रभाव एवं नवीन शोध” विषय पर नरेंद्र मोहन, विष्णु प्रभाकर श्रीवास्तव एवं अनुष्का अग्रवाल के द्वारा “ कृषि एवं खाद्य तकनीक के माध्यम से पोषण सुरक्षा – 2018” विषय पर दिनांक 9 एवं 10 फरवरी 2018 को आयोजित राष्ट्रीय खाद्य सम्मेलन मे एक पोस्टर प्रकाशित किया गया।

3) “नई तकनीक के माध्यम से सल्फर आधारित शर्करा फैक्ट्रियों मे वाहित/ दूषित जल का शोधन” विषय पर नरेंद्र मोहन एवं ए बाजपेयी के द्वारा अनुसंधान पत्र दक्षिण अफ्रीका शर्करा तकनीक संगठन, डरबन के वार्षिक सम्मेलन मे प्रकाशन हेतु भेजा गया जिसका आयोजन अगस्त, 2018 मे किया जाना है।

4) “मोलास (शीरा) आधारित भारतीय डिस्टलरी: ईथनोल एवं ऊर्जा उत्पादन क्षमता” विषय पर जे पी श्रीवास्तव, ए के कनौजिया एवं एस चौहान के द्वारा अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया, इस कार्यक्रम का आयोजन 15 मार्च 2018 को एन एस आई एवं भारतीय को- जेनरेशन इंडिया लखनऊ के द्वारा संयुक्त रूप से किया गया था।


अनुसंधान पत्र – अक्तूबर से दिसंबर 2017 -


1) ) “शर्करा उद्योग की स्थिरता हेतु उत्पादों मे विविधता” विषय पर नरेंद्र मोहन ने 23 वां एशियाई अंतराष्ट्रीय कोन्फ्रेंस मे अपना अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया, इस कार्यक्रम का आयोजन 2 नवंबर, 2017 को इन्डोनेशिया के जकार्ता मे आयोजित किया गया था।

2) “गन्ने की खोई से सर्फ़ेक्टेंट (जैव डिटर्जेंट) का उत्पादन” विषय पर शोधपत्र नरेंद्र मोहन, वी पी श्रीवास्तव एवं अनुष्का अग्रवाल के द्वारा आईएपीएसटी के 6 वें अंतराष्ट्रीय शर्करा सम्मेलन मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन मार्च 2018 मे थाइलैंड मे किया गया था।

3) “भारत मे गुणवत्ता के आधार पर गन्ना का कीमत भुगतान योजना- आज की जरूरत” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं प्रियंका सिंह के द्वारा आईएपीएसटी के 6 वें अंतराष्ट्रीय शर्करा सम्मेलन मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन मार्च 2018 मे थाइलैंड मे किया गया था।

4) “भारतीय शर्करा उद्योग के लिए हरित ऊर्जा : संपोषणीय ऊर्जा जरूरतों का भविष्य” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन, डॉ स्वेन एवं ए के कनौजिया के द्वारा आईएपीएसटी के 6 वें अंतराष्ट्रीय शर्करा सम्मेलन मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन मार्च 2018 मे थाइलैंड मे किया गया था।


अनुसंधान पत्र - जुलाई से सितंबर 2017 -


1) “गन्ना भंडार का ओटोमेशन : नुकसान को कम कर अधिकतम उत्पादन प्राप्ति का उपाय” विषय पर अनुसंधान पत्र श्री ब्रजेश सिंह के द्वारा एसटीएआई के 75 वें वार्षिक संगोष्ठी मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 03-05 अगस्त 2017 को केरल के कोच्चि मे आयोजित किया गया था।

2) “कच्चे शर्करा से परिष्कृत शर्करा का उत्पादन : अवसर एवं चुनौतियाँ” विषय पर अनुष्का अग्रवाल एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा, एन एस आई एवं एस निजलिंगप्पा शर्करा संस्थान के संयुक्त प्रयास से आयोजित अखिल भारतीय सेमिनार मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, जिसका आयोजन 28 अगस्त 2017 को बेलगावी कर्नाटक मे आयोजित किया गया था।

3) “कार्बोनेशन एवं फोस्फोटेशन रिफाइनरी : एक प्रयोगिक प्रयास” विषय पर नरेंद्र मोहन एवं महेंद्र यादव के द्वारा, एन एस आई एवं एस निजलिंगप्पा शर्करा संस्थान के संयुक्त प्रयास से आयोजित अखिल भारतीय सेमिनार मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, जिसका आयोजन 28 अगस्त 2017 को बेलगावी कर्नाटक मे आयोजित किया गया था।

4) “कार्बनिक शर्करा : एक अवसर” विषय पर आशुतोष बाजपेई एवं विवेक प्रताप सिंह के द्वारा, एन एस आई एवं एस निजलिंगप्पा शर्करा संस्थान के संयुक्त प्रयास से आयोजित अखिल भारतीय सेमिनार मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, जिसका आयोजन 28 अगस्त 2017 को बेलगावी कर्नाटक मे आयोजित किया गया था।

5) “भारतीय शर्करा की गुणवत्ता : अवसर एवं चुनौतियाँ” विषय पर अनुष्का अग्रवाल एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा, अमेटी विश्वविद्यालय ए एम आई एफ़ ओ एस टी- 2017 के द्वारा आयोजित एक दिवसीय अखिल भारतीय सेमिनार मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, जिसका आयोजन 26 सितंबर 2017 को नोयडा, उत्तर प्रदेश मे आयोजित किया गया था।

6) “भारतीय शर्करा उद्योग : अगला कदम” विषय पर नरेंद्र मोहन, वी पी श्रीवास्तव, शिखा सिंह एवं अनुष्का अग्रवाल के द्वारा, एन एस आई एवं सीआईआई के संयुक्त प्रयास से आयोजित शुगर टेक -2017 कार्यक्रम मे अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया, जिसका आयोजन 20 सितंबर, 2017 को लखनऊ मे आयोजित किया गया था।


अनुसंधान पत्र – अप्रैल से जून 2017 -


1) “गन्ना भंडार का ओटोमेशन : नुकसान को कम कर अधिकतम उत्पादन प्राप्ति का उपाय” विषय पर अनुसंधान पत्र श्री ब्रजेश सिंह के द्वारा एसटीएआई के 75 वें वार्षिक संगोष्ठी मे प्रकाशन हेतु स्वीकार किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 03-05 अगस्त 2017 को केरल के कोच्चि मे आयोजित किया जाना है।

2) “इलेक्ट्रो- कोगुलेशन तकनीक के माध्यम से शर्करा उद्योग मे कंडेंसेट तथा वाहित जल का शोधन” विषय पर अनुसंधान पत्र डॉ सीमा परोहा के द्वारा गन्ना एवं गन्ना अवयव से संबन्धित अंतराष्ट्रीय कॉंग्रेस मे प्रकाशन हेतु स्वीकार किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 26 से 30 जून, 2017 को क्यूबा के ला हबाना मे आयोजित किया जाना है।

3) “अपशिष्ट से आय ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं डॉ स्वेन के द्वारा एसटीएआई के कार्यक्रम मे प्रकाशन हेतु स्वीकार किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 03-05 अगस्त 2017 को केरल के कोच्चि मे आयोजित किया जाना है।

4) “परिस्थिति आधारित रख-रखाव – एक व्यवस्थित प्रयास” विषय पर अनुसंधान पत्र संजय चौहान एवं डॉ स्वेन के द्वारा भारतीय शर्करा पत्रिका मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।

5) “आइसिंग शुगर : भारतीय शर्करा बाजार का नया उत्पाद” विषय पर अनुसंधान पत्र जाहर सिंह एवं विवेक प्रताप सिंह के द्वारा को- ओपरेटिव शर्करा पत्रिका मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।

6) “सुकेम DT14- जैव-संयोजक के माध्यम से वेफ़र कंडेंसेट शोधन- MME उपरांत आसवनी शोधन” विषय पर अनुसंधान पत्र संतोष कुमार, सीमा परोहा एवं श्रीकांतेश्वर के द्वारा एसटीएआई के 75 वें वार्षिक संगोष्ठी मे प्रकाशन हेतु स्वीकार किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 03-05 अगस्त 2017 को केरल के कोच्चि मे आयोजित किया जाना है।

7) “बगास के नमी को कम करने एवं गन्ने द्वारा स्टीम के खपत प्रतिशत को कम करने के मध्य तुलनात्मक अध्ययन” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन, डाक्टर स्वेन एवं अनूप कुमार कनौजिया के द्वारा एसटीएआई के 75 वें वार्षिक संगोष्ठी मे प्रकाशन हेतु स्वीकार किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 03-05 अगस्त 2017 को केरल के कोच्चि मे आयोजित किया जाना है।

8) “इवापोरेटर तकनीक से शोधन की आधुनिक प्रविधियाँ ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेन्द्र मोहन एवं आशुतोष बाजपेयी के द्वारा एसटीएआई के 75 वें वार्षिक संगोष्ठी मे प्रकाशन हेतु स्वीकार किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 03-05 अगस्त 2017 को केरल के कोच्चि मे आयोजित किया जाना है।

9) “गन्ने के बगास का नवीकरणीय फीडबैक के रूप मे जैव- डिटर्जेंट के उत्पादन मे प्रयोग ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन, विष्णु पी श्रीवास्तव तथा अनुष्का अग्रवाल के द्वारा एसटीएआई के 75 वें वार्षिक संगोष्ठी मे प्रकाशन हेतु स्वीकार किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 03-05 अगस्त 2017 को केरल के कोच्चि मे आयोजित किया जाना है।

10) “शर्करा उपयोग को ध्यान मे रखते हुये शर्करा की गुणवत्ता का निर्धारण ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन के द्वारा डीएसटीए के 63 वें वार्षिक सम्मेलन मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 14-15 जुलाई, को कर्नाटक के बेलगावी मे आयोजित किया जाना है।

11) “गन्ना उत्पादकता मे बढ़ोत्तरी – एक समग्र प्रयास” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं प्रियंका सिंह के द्वारा गन्ना एवं गन्ना अवयव से संबन्धित अंतराष्ट्रीय कॉंग्रेस मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 26 से 30 जून, 2017 को क्यूबा के ला हबाना मे आयोजित किया जाना है।

12) “गन्ना के रस का उपयोग: हरित उत्पादन प्रक्रिया से ग्रैफिन का शीघ्र उत्पादन ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं विष्णु प्रभाकर के द्वारा गन्ना एवं गन्ना अवयव से संबन्धित अंतराष्ट्रीय कॉंग्रेस मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 26 से 30 जून, 2017 को क्यूबा के ला हबाना मे आयोजित किया जाना है।

13) “जैव ईंधन : भारत मे पर्यावरण अनुकूल एवं आर्थिक रूप से समृद्ध ऊर्जा उत्पादन की ओर एक कदम ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं अनूप कुमार कनौजिया के द्वारा गन्ना एवं गन्ना अवयव से संबन्धित अंतराष्ट्रीय कॉंग्रेस मे प्रकाशन हेतु स्वीकार किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 26 से 30 जून, 2017 को क्यूबा के ला हबाना मे आयोजित किया जाना है।

14) “शर्करा के औद्योगिक उत्पादन मे कार्बोनेशन एवं फोस्फेटेशन प्रक्रम का तुलनात्मक अध्ययन” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन के द्वारा एसटीएआई, नई दिल्ली के राष्ट्रीय सेमिनार मे प्रकाशित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 19 मई, 2017 को सिक्किम के गंगटोक मे आयोजित किया गया था।

15) “ईथनोल उत्पादन हेतु स्वीट सोरघम (मीठी चरी या सोरघम बाइकलर एल) के उत्पादन मे पोटेशियम, ज़िंक आदि का एग्रोनोमिक एवं जैव रसायनिक प्रभाव ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन, अशोक कुमार एवं लोकेश बाबर के द्वारा एनआईएसएसटीए के वार्षिक सम्मेलन मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 12-13 मई, 2017 को लखनऊ मे आयोजित किया गया था।

16) “गन्ना के रस के शोधन मे प्राकृतिक एवं रासायनिक फ्लोकूलेंट्स का प्रभाव ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन, डॉ चित्रा यादव एवं आशीष कुमार शुक्ला के द्वारा एनआईएसएसटीए के वार्षिक सम्मेलन मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 12-13 मई, 2017 को लखनऊ मे आयोजित किया गया था।

17) “शर्करा उत्पादन उद्योग : हरित भविष्य हेतु नए प्रक्रम ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं आशुतोष बाजपेयी के द्वारा एनआईएसएसटीए के वार्षिक सम्मेलन मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 12-13 मई, 2017 को लखनऊ मे आयोजित किया गया था।

18) “नयी विद्युत इकाइयों की स्थापना मे उपलब्ध विद्युत इकाइयों का प्रयोग जिससे ब्रेकडाउन टाइम को कम किया जा सके एवं प्रारम्भिक स्थापना लागत को घटाया जा सके” विषय पर नरेंद्र मोहन एवं विनय कुमार के द्वारा अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया। इसके साथ ही “गन्ना आधारित शर्करा उद्योग – संपोषणीय विकास हेतु नवीन प्रवृतियां” विषय पर नरेंद्र मोहन एवं ए बाजपेयी के द्वारा अनुसंधान पत्र एनएसआई – जेपीएमए के संयुक्त प्रयास से आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 20 अप्रैल 2017 को पुणे मे “ शर्करा उद्योग मे स्थिरता हेतु संसाधनों का प्रबंधन” विषय पर आयोजित किया गया था।

19) “बगास से नमी को कम करने के तकनीकी विकल्प ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं डॉ स्वेन के द्वारा राष्ट्रीय शर्करा संस्थान परिसर कानपुर मे “ बगास से नमी को कम करने के तकनीकी विकल्प ” विषय पर दिनांक 17 अप्रैल 2017 को आयोजित राष्ट्रीय कार्यशाला मे प्रस्तुत किया गया।

20) “मृदा के संपोषणीय उपयोग एवं अत्यधिक फसल उत्पादन हेतु साइट आधारित विशिष्ट पोषण प्रबंधन ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं अशोक कुमार के द्वारा राष्ट्रीय शर्करा संस्थान परिसर कानपुर मे “ उन्नत कृषि एवं विश्लेष्णातमक प्रविधियों द्वारा गन्ना एवं फार्म उत्पादकता का समग्र विकास प्रक्रिया ” विषय पर दिनांक 6-7 अप्रैल 2017 को आयोजित अखिल भारतीय सेमिनार मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन एनएसआई- सीएसए कृषि एवं तकनीकी विश्वविद्यालय के संयुक्त प्रयास से आयोजित किया गया था।


जनवरी से मार्च 2017


1) “शर्करा उद्योग मे बगास को सुखाना, ईंधन संरक्षण की दिशा मे एक प्रभावी कदम” विषय पर शोधपत्र डॉ स्वेन एवं अनूप कुमार कनौजिया के द्वारा अखिल भारतीय सेमिनार मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 3 फरवरी 2017 को मेरुत, उत्तर प्रदेश मे भारतीय तकनीकी संगठन के द्वारा किया गया था।

2) “शर्करा उद्योग प्राप्त जैव अपशिष्ठ लिंगोसेलुलोस से कार्बोकेटलिस्ट की प्राप्ति” विषय पर पोस्टर श्री नरेंद्र मोहन एवं श्री विष्णु प्रभाकर के द्वारा इंडो- जर्मन कार्यशाला मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन “कार्बोकेटलिस्ट का रसायन एवं जीवविज्ञान मे नवीनतम प्रयोग” s(आरएसीसीबी-2017) विषय पर 14 से 16 फरवरी 2017 को वाराणसी, उत्तर प्रदेश, भारत मे आईआईटी बीएचयू के द्वारा किया गया था।

3) “सौर ऊर्जा का उपयोग : भारतीय शर्करा उद्योग के लिए एक अवसर” विषय पर शोधपत्र डॉ स्वेन, अनूप कुमार कनौजिया एवं विनय कुमार के द्वारा अखिल भारतीय सेमिनार मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन “ऊर्जा एवं जल संरक्षण” विषय पर SISSTA एवं SNSI के संयुक्त प्रयास से बेलगावी, कर्नाटक मे 25 फरवरी 2017 को आयोजित किया गया था।

4) “कार्बनिक तरल माध्यम द्वारा गन्ना के रस मे स्पेक्ट्रोफोटोमेट्रिक फॉस्फेट का निर्धारण” विषय पर शोधपत्र श्री नरेंद्र मोहन, श्री विष्णु प्रभाकर एवं डॉ चित्रा यादव के द्वारा भारतीय शर्करा के जनवरी 2017 अंक मे प्रकाशित किया गया।

5) “उत्तर प्रदेश की ऊर्जा संकट मे शर्करा उद्योग की भूमिका” विषय पर शोधपत्र श्री डाक्टर स्वेन एवं श्री अनूप कुमार कनौजिया के द्वारा भारतीय शर्करा के अक्तूबर-दिसंबर, 2016 अंक मे प्रकाशित किया गया।

6) “भारतीय गन्ना आधारित शीरा की गुणवत्ता का अवलोकन एवं अन्य फीड स्टॉक की आवश्यकता” विषय पर शोधपत्र नरेंद्र मोहन एवं सीमा परोहा के द्वारा अखिल भारतीय सेमिनार मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन AIDA के द्वारा 22 एवं 23 फरवरी 2017 को नई दिल्ली मे आयोजित किया गया था।

7) “भारतीय शर्करा उद्योग मे उत्पादक यंत्रों का संक्षारण – एक अवलोकन” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं आशुतोष बाजपेयी के द्वारा अखिल भारतीय सेमिनार मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन भारतीय तकनीकी संगठन के द्वारा 4 मार्च, 2017 को पुणे मे “शर्करा एवं संबन्धित उद्योग मे संक्षारण से बचने हेतु स्टेनलेश स्टील का उपयोग” विषय पर आयोजित किया गया था।

8) “मृदा के संपोषणीय उपयोग एवं पोटेशियम के प्रयोग से गाना की गुणवत्ता एवं उत्पादकता मे सुधार” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन, अशोक कुमार यादव, लोकेश बाबर एवं प्रभात कुमार अग्निहोत्री के द्वारा “संपोषणीय विकास हेतु कृषक केन्द्रित कृषि नवोन्मेस” विषय पर सी एस आजाद कृषि एवं तकनीक विश्वविद्यालय द्वारा 24- 25 मार्च 2017 को कानपुर मे आयोजित संगोष्ठी मे प्रस्तुत किया गया।

9) “जैव ईंधन : भारत मे पर्यावरण अनुकूल एवं आर्थिक रूप से समृद्ध ऊर्जा उत्पादन की ओर एक कदम ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं अनूप कुमार कनौजिया के द्वारा गन्ना एवं गन्ना अवयव से संबन्धित अंतराष्ट्रीय कॉंग्रेस मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 26 से 30 जून, 2017 को क्यूबा के ला हबाना मे आयोजित किया जाना है।

10) “गन्ना के रस का उपयोग: हरित उत्पादन प्रक्रिया से ग्रैफिन का शीघ्र उत्पादन ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं विष्णु प्रभाकर के द्वारा गन्ना एवं गन्ना अवयव से संबन्धित अंतराष्ट्रीय कॉंग्रेस मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 26 से 30 जून, 2017 को क्यूबा के ला हबाना मे आयोजित किया जाना है।

11) “गन्ना उत्पादकता मे बढ़ोत्तरी – एक समग्र प्रयास” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं प्रियंका सिंह के द्वारा गन्ना एवं गन्ना अवयव से संबन्धित अंतराष्ट्रीय कॉंग्रेस मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन 26 से 30 जून, 2017 को क्यूबा के ला हबाना मे आयोजित किया जाना है।


अनुसंधान पत्र – अक्तूबर से दिसंबर 2016 -


1) “ईथनोल एवं भारतीय शर्करा उद्योग : स्थिरता एवं विकास की पहल” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन के द्वारा MNRE के “भारतीय औद्योगिक सह उत्पाद” न्यूजलेटर मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।

2) “भारतीय शर्करा उद्योग मे स्थिरता : एक रोडमैप” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन के द्वारा राष्ट्रीय सेमिनार मे “गन्ना उत्पादन मे चुनौतियाँ, अवसर एवं नवोन्मेष : कृषि, जैव ईंधन एवं जलवायु परिवर्तन” विषय पर गन्ना अनुसंधान समिति, शाहजहाँपुर, उत्तर प्रदेश के द्वारा आयोजित कार्यक्रम मे 21 से 23 दिसंबर 2016 प्रस्तुत किया गया।

3) “बगास से ग्रैफिन ऑक्साइड का उत्पादन: कार्बोकेटलिस्ट के रूप मे उपयोग एवं उत्पादन” विषय पर नरेंद्र मोहन एवं विष्णु प्रभाकर के द्वारा आई एस एस सी टी के थाइलैंड मे दिसंबर 2016 को आयोजित कॉंग्रेस के XXIX वी बैठक मे प्रस्तुत किया गया।

4) “इवापोरेटर भेपर को एम वी आर के माध्यम से संपीडित कर पुनः चक्रण तथा इवापोरेटर मे उनका पुनः उपयोग” विषय पर नरेंद्र मोहन एवं महेंद्र यादव के द्वारा आई एस एस सी टी के थाइलैंड मे 5- 8 दिसंबर 2016 को आयोजित होने वाले कॉंग्रेस के XXIX वी बैठक मे प्रस्तुत किया गया।

5) “वैकल्पिक फीड स्टॉक के माध्यम से भारत मे ईथनोल की उत्पादन मे उपयोगिता” विषय पर नरेंद्र मोहन, सीमा परोहा एवं संतोष कुमार के द्वारा आई एस एस सी टी के थाइलैंड मे 5- 8 दिसंबर 2016 को आयोजित होने वाले कॉंग्रेस के XXIX वी बैठक मे प्रस्तुत किया गया।

6) “गन्ना-रस शोधन मे डिस्टिलरी फर्मेंटर गैसों का उपयोग” विषय पर नरेंद्र मोहन, ए के बाजपेयी एवं एम पी सिंह के द्वारा आई एस एस सी टी के थाइलैंड मे 5- 8 दिसंबर 2016 को आयोजित होने वाले कॉंग्रेस के XXIX वी बैठक मे प्रस्तुत किया गया।

7) “भारतीय अल्कोहल उद्योग – भविष्य एवं चुनौतियाँ” विषय पर संतोष कुमार एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा दो दिवसीय अखिल भारतीय सेमिनार मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन संस्थान एवं अखिल भारतीय आसवनी संगठन के सहयोग से 17 एवं 18 अक्तूबर 2016 को “ईथनोल का उत्पादन / जैव ईंधन एवं वाहित जल शोधन तकनीक के माध्यम से शून्य वाहित जल स्तर की प्राप्ति” विषय पर आयोजित किया गया था।

8) “बॉयलिंग हाउस मे स्टीम की खपत को कम करना- एक अवलोकन” विषय पर एम पी सिंह, ए बाजपेयी एवं एन मोहन के द्वारा एस टी ए आई के कार्यक्रम मे प्रस्तुत किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन अमृतसर मे 14 अक्तूबर, 2016 को आयोजित किया गया।

9) “चीनी मिलों मे ऊर्जा कुशल प्रयोग” विषय पर नरेंद्र मोहन एवं जे पी श्रीवास्तव के द्वारा एस टी ए आई के कार्यक्रम मे प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन अमृतसर मे 14 अक्तूबर, 2016 को आयोजित किया गया।


अनुसंधान पत्र – जुलाई से अक्तूबर 2016 -


1) “बॉयलिंग हाउस मे स्टीम की खपत को कम करना- एक अवलोकन” विषय पर अनुसंधान पत्र एम पी सिंह, ए बाजपेयी एवं एन मोहन के द्वारा एस टी ए आई के कार्यक्रम मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन अमृतसर मे 14 अक्तूबर, 2016 को आयोजित किया जाना है।

2) “चीनी मिलों मे ऊर्जा कुशल प्रयोग” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन एवं जे पी श्रीवास्तव के द्वारा एस टी ए आई के कार्यक्रम मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन अमृतसर मे 14 अक्तूबर, 2016 को आयोजित किया जाना है।

3) “इथनोल उत्पादन एवं शर्करा उद्योग : अवसर एवं चुनौतियाँ” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन के द्वारा “ईथनोल आउटलुक” मे प्रकाशित किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन नई दिल्ली मे 22-23 अगस्त 2016 मे आयोजित किया गया था।

4) “गन्ने के रस से प्राकृतिक शोधक एवं साइट्रिक अमल से इनवर्ट शुगर सीरप का उत्पादन” विषय पर अनुसंधान पत्र विनितांजली बनर्जी, संतोष कुमार एवं सीमा परोहा के द्वारा एस टी ए आई के वार्षिक संगोष्ठी मे प्रकाशित किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन नई दिल्ली मे 28-30 जुलाई, 2016 को आयोजित किया गया था।

5) “भारत मे ईथनोल का उत्पादन – एक अगला कदम” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन के द्वारा DSTA के 62 वें वार्षिक सम्मेलन मे प्रकाशित किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन पुणे मे 12-13 अगस्त, 2016 को आयोजित किया गया।

6) “ओजोनिकरण : सल्फ्यूरिकरण का अन्य विकल्प” विषय पर अनुसंधान पत्र वी पी सिंह, जाहर सिंह एवं पी सान्याल के द्वारा एस टी ए आई के कार्यक्रम मे प्रस्तुत किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन नई दिल्ली मे 28-30 जुलाई, 2016 को आयोजित किया गया।

7) “चीनी के धूल का संकलन प्रक्रम एवं क्षमता विस्तार” विषय पर अनुसंधान पत्र संजय चौहान के द्वारा एस टी ए आई के वार्षिक कार्यक्रम मे प्रस्तुत किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन नई दिल्ली मे 28-30 जुलाई, 2016 को आयोजित किया गया।

8) “गन्ना आधारित शर्करा उद्योग मे जल संरक्षण एवं जल शोधन : आज के समय की जरूरत” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन, वी पी श्रीवास्तव, महेंद्र यादव एवं वी एस मौर्या के द्वारा SISSTA के वार्षिक कार्यक्रम मे प्रस्तुत किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन चेन्नई मे 15-16 जुलाई, 2016 को आयोजित किया गया।


अनुसंधान पत्र –जून 2016 -


1) “गन्ना आधारित शर्करा उद्योग मे जल संरक्षण एवं जल शोधन : आज के समय की जरूरत” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन, वी पी श्रीवास्तव, महेंद्र यादव एवं वी एस मौर्या के द्वारा SISSTA के वार्षिक कार्यक्रम मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन चेन्नई मे जुलाई, 2016 को आयोजित किया जाना है।

2) “गन्ने के रस से प्राकृतिक शोधक एवं साइट्रिक अमल से इनवर्ट शुगर सीरप का उत्पादन” विषय पर अनुसंधान पत्र विनितांजली बनर्जी, संतोष कुमार एवं सीमा परोहा के द्वारा एस टी ए आई के वार्षिक संगोष्ठी मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन नई दिल्ली मे 28-30 जुलाई, 2016 को आयोजित किया जाना है।

3) “ओजोनिकरण : सल्फ्यूरिकरण का अन्य विकल्प” विषय पर अनुसंधान पत्र वी पी सिंह, जाहर सिंह एवं पी सान्याल के द्वारा एस टी ए आई के कार्यक्रम मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन नई दिल्ली मे जुलाई, 2016 को आयोजित किया जाना है।


अनुसंधान पत्र – मई, 2016 -


1) “चीनी के धूल का संकलन प्रक्रम एवं क्षमता विस्तार” विषय पर अनुसंधान पत्र संजय चौहान के द्वारा एस टी ए आई के 74 वें वार्षिक कार्यक्रम मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन नई दिल्ली मे जुलाई, 2016 को आयोजित किया जाना है।

2) “ भारत मे ईथनोल का उत्पादन – एक अगला कदम” विषय पर अनुसंधान पत्र नरेंद्र मोहन के द्वारा DSTA के वार्षिक सम्मेलन मे प्रकाशित करने हेतु प्रेषित किया गया ।

3) “शर्करा उद्योग मे वाहित/ दूषित जल शोधन का वास्तविक समय मे निरीक्षण : एक अध्ययन” विषय पर अनुसंधान पत्र एम के बनर्जी के द्वारा अनुसंधान पत्र 12 मई 2016 को राष्ट्रीय शर्करा संस्थान, कानपुर, उत्तर प्रदेश मे “केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के नियमों के अनुरूप जल प्रबंधन” विषय पर आयोजित होने वाले राष्ट्रीय सम्मेलन मे प्रस्तुत किया गया ।


अनुसंधान पत्र – अप्रैल, 2016 -


1) “इलेक्ट्रो कोगुलेशन के साथ एडसोर्पशन तथा आयन एक्सचेंज प्रक्रिया : शर्करा उद्योग से प्राप्त कंडेंसेट तथा वाहित जल के पुनः उपयोग का एक उपयोगी प्रक्रम” विषय पर अनुसंधान पत्र सीमा परोहा के द्वारा “जल संरक्षण एवं केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के दिशा निर्देशों के निर्धारित लक्ष्य” विषय पर आयोजित अखिल भारतीय सेमिनार मे प्रस्तुत किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन 12 मई, 2016 को राष्ट्रीय शर्करा संस्थान एवं भारतीय शर्करा तकनीकी संगठन के संयुक्त प्रयास से आयोजित किया गया था।

2) “उत्तर प्रदेश के ऊर्जा संकट मे शर्करा उद्योग की भूमिका” विषय पर अनुसंधान पत्र अनूप कनौजिया एवं डाक्टर स्वेन के द्वारा NISSTA के वार्षिक सम्मेलन मे प्रकाशित किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन लखनऊ मे 29-30 अप्रैल, 2016 को आयोजित किया गया।

3) “चुकंदर से ईथनोल उत्पादन मे पोटेशियम, जिंक एवं सल्फर का मर्फ़ोलोजी, उत्पादन एवं जैव रसायन गुणों पर प्रभाव” विषय पर अनुसंधान पत्र अशोक कुमार एवं लोकेश बाबर के द्वारा NISSTA के वार्षिक सम्मेलन मे प्रकाशित करने हेतु प्रेषित किया गया । इस कार्यक्रम का आयोजन लखनऊ मे 29-30 अप्रैल, 2016 को आयोजित किया जाना है


अनुसंधान पत्र – मार्च, 2016 -


1) “पोटेशियम- जिंक- सल्फर के उपयोग का चुकंदर के उत्पादन मे संरचनात्मक प्रभाव तथा ईथनोल का उत्पादन” विषय पर अनुसंधान पत्र उत्तर भारतीय गन्ना एवं शर्करा तकनीक संगठन के वार्षिक सम्मेलन मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया जिसका आयोजन लखनऊ मे अप्रैल 2016 मे किया जाना है।

2) “शर्करा उद्योग मे वाहित/ दूषित जल शोधन का वास्तविक समय मे निरीक्षण : एक अध्ययन” विषय पर एम के बनर्जी के द्वारा अनुसंधान पत्र 12 मई 2016 को राष्ट्रीय शर्करा संस्थान, कानपुर, उत्तर प्रदेश मे “केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के नियमों के अनुरूप जल प्रबंधन” विषय पर आयोजित होने वाले राष्ट्रीय सम्मेलन मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया ।


Rअनुसंधान पत्र – जनवरी, 2016 -


1) “भारत मे गन्ना उत्पादन एवं उत्पादकता की चुनौतियाँ एवं भविष्य की आवश्यकताएँ” विषय पर अनुसंधान पत्र लोकेश बाबर एवं अशोक कुमार के द्वारा भारतीय शर्करा के जनवरी 2016 के अंक मे प्रकाशित किया गया।

2) “वर्तमान एवं भविष्य मे गन्ना आधारित शर्करा के उत्पादन मे डिकेंटर के उपयोग” विषय पर नरेंद्र मोहन, जाहर सिंह एवं ए के गर्ग के द्वारा अनुसंधान पत्र 29 जनवरी, 2016 को उत्तर प्रदेश के नोएडा मे “ऊर्जा कुशल क्लारिफायर के द्वारा शोधन” विषय पर आयोजित अखिल भारतीय सेमिनार मे प्रस्तुत किया गया जिसका आयोजन एस टी ए आई के द्वारा किया गया था।


“अकादमिक सत्र 2015 के दौरान राष्ट्रीय शर्करा संस्थान के विभिन्न संकाय सदस्यों के द्वारा निम्नलिखित अनुसंधान पत्र प्रस्तुत/ प्रकाशित/ प्रकाशन हेतु प्रेषित किए गए।



अनुसंधान पत्र – दिसंबर, 2015 -


1) “भारत मे गन्ना उत्पादन एवं उत्पादकता के क्षेत्र मे चुनौतियाँ एवं आवश्यकताएँ” विषय पर अशोक कुमार एवं लोकेश बाबर के द्वारा भारतीय शर्करा मे प्रकाशन हेतु अनुसंधान पत्र प्रेषित किया गया।

2) “बगास से ग्रैफिन ऑक्साइड का उत्पादन: कार्बोकेटलिस्ट के रूप मे उपयोग एवं उत्पादन” विषय पर नरेंद्र मोहन एवं विष्णु प्रभाकर के द्वारा आई एस एस सी टी के थाइलैंड मे दिसंबर 2016 को आयोजित कॉंग्रेस के XXIX वी बैठक मे प्रस्तुत किया गया।

3) “इवापोरेटर भेपर को एम वी आर के माध्यम से संपीडित कर पुनः चक्रण तथा इवापोरेटर मे उनका पुनः उपयोग” विषय पर नरेंद्र मोहन एवं महेंद्र यादव के द्वारा आई एस एस सी टी के थाइलैंड मे दिसंबर 2016 को आयोजित होने वाले कॉंग्रेस के XXIX वी बैठक मे प्रकाशन हेतु भेजा गया।

4) ) “वैकल्पिक फीड स्टॉक के माध्यम से भारत मे ईथनोल की उत्पादन मे उपयोगिता” विषय पर सीमा परोहा एवं संतोष कुमार के द्वारा आई एस एस सी टी के थाइलैंड मे दिसंबर 2016 को आयोजित होने वाले कॉंग्रेस के XXIX वी बैठक मे प्रकाशन हेतु भेजा गया।

5) “गन्ना-रस शोधन मे डिस्टिलरी फर्मेंटर गैसों का उपयोग” विषय पर नरेंद्र मोहन, ए के बाजपेयी एवं एम पी सिंह के द्वारा आई एस एस सी टी के थाइलैंड मे दिसंबर 2016 को आयोजित होने वाले कॉंग्रेस के XXIX वी बैठक मे प्रकाशन हेतु भेजा गया।


Rअनुसंधान पत्र – नवंबर, 2015 -


6) “भारतीय शर्करा उद्योग की आर्थिक स्थिति मे सुधार हेतु ईथनोल का उत्पादन” विषय पर नरेंद्र मोहन के द्वारा “ईथनोल इंडिया” पत्रिका मे प्रकाशन हेतु अनुसंधान पत्र प्रेषित किया गया।

7) “चयनित वैकल्पिक माध्यम से ईथनोल उत्पादन की आर्थिक उपादेयता” विषय पर एस कुमार, सीमा परोहा एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा दिनांक 19 नवंबर, 2015 को कानपुर मे संस्थान एवं अखिल भारतीय डिस्टलरी एसोसिएसन के संयुक्त प्रयास से आयोजित से अखिल भारतीय सेमिनार मे अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया।


अनुसंधान पत्र – अक्तूबर, 2015 -


8) “शर्करा उद्योग मे मिलिंग टेंडम के संचालन मे डी सी ड्राइव पावर प्रोसेसर की संरचना मे संतुलन एक नवीन प्रक्रम” विषय पर नरेंद्र मोहन, डी स्वेन, अनूप कनौजिया के द्वारा “अखिल भारतीय गन्ना ऊर्जा प्रयोग तकनीक- वर्तमान एवं संभावित भविष्य” विषय पर अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन संस्थान एवं जे पी मुखर्जी एंड असोसिएट लिमिटेड के द्वारा 17 अक्तूबर, 2015 को पुणे मे किया गया।


9) “बी हेवी मोलासेस (शीरा) के माध्यम से ईथनोल के उत्पादन मे विकास- एक नवीन प्रक्रम” विषय पर नरेंद्र मोहन, सीमा परोहा एवं एस कुमार के द्वारा “अखिल भारतीय गन्ना ऊर्जा प्रयोग तकनीक- वर्तमान एवं संभावित भविष्य” विषय पर अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन संस्थान एवं जे पी मुखर्जी एंड असोसिएट लिमिटेड के द्वारा 17 अक्तूबर, 2015 को पुणे मे किया गया।


10) “अल्कोहल उत्पादन मे वैकल्पिक फीड स्टॉक- ई बी पी के क्षेत्र मे उपलब्धि” विषय पर संतोष कुमार, श्रीमती सीमा परोहा एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा दिनांक 8 एवं 9 अक्तूबर, 2015 को अखिल भारतीय डिस्टलरी एसोसिएसन द्वारा बंगलुरु मे आयोजित होने वाले अखिल भारतीय सेमिनार मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।


अनुसंधान पत्र – सितंबर, 2015 -


11) “बगास ड्राइंग- भारत की ऊर्जा जरूरतों के समाधान मे एक हरित एवं प्रभावी समाधान” विषय पर अनूप कनौजिया एवं डाक्टर स्वेन के द्वारा 4 से 6 सितंबर 2015 को गोवा मे आयोजित एस टी ए आई और डी एस टी ए के संयुक्त XI वीं बैठक मे अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया।


12) “ऊर्जा संरक्षण- एक अध्ययन” विषय पर संजय चौहान के द्वारा 4 से 6 सितंबर 2015 को गोवा मे आयोजित एस टी ए आई और डी एस टी ए के संयुक्त XI वीं बैठक मे अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया।


13) “जूस के मैलेपन का रियल टाइम ऑनलाइन निरीक्षण” विषय पर एम के बनर्जी के द्वारा 4 से 6 सितंबर 2015 को गोवा मे आयोजित एस टी ए आई और डी एस टी ए के संयुक्त XI वीं बैठक मे अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया।


14) “बगास गैसीफिकेशन- एक ऊर्जा अनुकूल विकल्प” विषय पर नरेंद्र मोहन, जे पी श्रीवास्तव एवं अनूप कनौजिया के द्वारा 4 से 6 सितंबर 2015 को गोवा मे आयोजित एस टी ए आई और डी एस टी ए के संयुक्त XI वीं बैठक मे अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया।


15) “शर्करा उद्योग मे थ्रेसर आधारित गति नियंत्रण तकनीक: एक अध्ययन” विषय पर ब्रजेश सिंह, वीरेंद्र कुमार एवं एम के बनर्जी के द्वारा 4 से 6 सितंबर 2015 को गोवा मे आयोजित एस टी ए आई और डी एस टी ए के संयुक्त XI वीं बैठक मे अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया।


16) “रिफाइंड शुगर के उत्पादन मे कार्बोनेशन एवं फोस्फोटेशन प्रक्रिया का तुलनात्मक अध्ययन” विषय पर नरेंद्र मोहन एवं महेंद्र यादव के द्वारा 4 से 6 सितंबर 2015 को गोवा मे आयोजित एस टी ए आई और डी एस टी ए के संयुक्त XI वीं बैठक मे अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया।


17) “किण्वन गैसों के माध्यम से गन्ना-रस का शोधन एवं सल्फर रहित श्वेत शर्करा का उत्पादन” विषय पर नरेंद्र मोहन, ए के बाजपेयी, नरेंद्र देव एवं एम पी सिंह के द्वारा 4 से 6 सितंबर 2015 को गोवा मे आयोजित एस टी ए आई और डी एस टी ए के संयुक्त XI वीं बैठक मे अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया।


18) “शीरा मे तापमान, कार्बनिक एवं अकार्बनिक संघटकों का झाग उत्पादन प्रभाव” विषय पर किरण सिंह, एस मोहन एवं जितेंद्र सिंह के द्वारा 4 से 6 सितंबर 2015 को गोवा मे आयोजित एस टी ए आई और डी एस टी ए के संयुक्त XI वीं बैठक मे अनुसंधान पत्र प्रस्तुत किया गया।


अनुसंधान पत्र – अगस्त, 2015 -


19) “लेड सब एसीटेट की मात्रा के अनुकूलन मे बॉयलिंग हाउस के उत्पादों का निरीक्षण” विषय पर आशुतोष बाजपेई, एम चंद्रा एवं एम मण्डल के द्वारा भारतीय शर्करा के अगस्त 2015 के अंक मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया।


20) ““गन्ना प्रसंस्करण मे डिकेंटर का प्रयोग पर पुनरावलोकन एवं चुनौतियाँ” विषय पर नरेंद्र मोहन, जाहर सिंह एवं ए के गर्ग के द्वारा शर्करा फसल एवं संबन्धित उद्योग के अंतराष्ट्रीय जर्नल मे अनुसंधान पत्र प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।


21) “अल्कोहल उत्पादन मे वैकल्पिक फीड स्टॉक- ई बी पी के क्षेत्र मे उपलब्धि” विषय पर संतोष कुमार, श्रीमती सीमा परोहा एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा ए आई डी ए के अक्तूबर 2015 मे आयोजित होने वाले अखिल भारतीय सेमिनार मे प्रकाशन हेतु प्रेषित किया गया।


22) “ कशावा एवं चुकंदर – अल्कोहल उत्पादन के वैकल्पिक फीड स्टॉक” विषय पर संतोष कुमार, श्रीमती सीमा परोहा एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा 4 से 6 अगस्त 2015 को गोवा मे आयोजित एस टी ए आई एवं डी एस टी ए के XI वीं संयुक्त बैठक मे प्रकाशित किया गया।


अनुसंधान पत्र – जुलाई, 2015 -


23) “बगास आधारित इंटीग्रेटेड गैसीफिकेशन प्रक्रिया- भारतीय शर्करा उद्योग मे कुशल ऊर्जा उत्पादन हेतु एक नवीन प्रयास” विषय पर अनूप कुमार कनौजिया, जे पी श्रीवास्तव एवं नरेंद्र मोहन के द्वारा 24 – 25 जुलाई, 2015 को बेंगलुरु मे आयोजित एस आई एस एस टी ए के 45 वें वार्षिक सम्मेलन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया।


24) “बॉयलर की सफाई मे वायु विस्फोट प्रक्रिया” विषय पर संजय चौहान के द्वारा 24 – 25 जुलाई, 2015 को बेंगलुरु मे आयोजित एस आई एस एस टी ए के 45 वें वार्षिक सम्मेलन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया।


26) “लेड सब एसीटेट की मात्रा के अनुकूलन मे बॉयलिंग हाउस के उत्पादों का निरीक्षण” विषय पर आशुतोष बाजपेई, एम चंद्रा एवं एम मण्डल के द्वारा 24 – 25 जुलाई, 2015 को बेंगलुरु मे आयोजित होने वाले एस आई एस एस टी ए के 45 वें वार्षिक सम्मेलन मे अनुसंधान पत्र प्रेषित किया गया।


25) “शर्करा उद्योग मे उत्पादन प्रक्रिया के दौरान ओटोमेशन प्रक्रम : एक अध्ययन” विषय पर ब्रजेश सिंह, वीरेंद्र कुमार एवं एम के बनर्जी के द्वारा 24 – 25 जुलाई, 2015 को बेंगलुरु मे आयोजित एस आई एस एस टी ए के 45 वें वार्षिक सम्मेलन मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया।


अनुसंधान पत्र – मई, 2015 -


26) “शर्करा उद्योग मे जी ए सी का उत्पादन- एक नवीन सह उत्पाद” विषय पर डॉ मुखर्जी ने “शर्करा परिसर से जुड़ी पर्यावरण संबन्धित विषयवस्तु” पर आयोजित अखिल भारतीय सेमिनार मे 11 मई, 2015 को अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया, इस कार्यक्रम का आयोजन दक्षिण भारतीय गन्ना एवं शर्करा तकनीकी संगठन के द्वारा हैदराबाद मे आयोजित किया गया था।


अनुसंधान पत्र – अप्रैल, 2015 -


27) “ गन्ना-रस के निकासी मे कुशल विद्युत प्रयोग” विषय पर अनूप कुमार कनौजिया, विनय कुमार एवं डॉक्टर स्वेन के द्वारा दिनांक 18 अप्रैल 2015 को एन एस आई एवं- एस टी ए आई द्वारा बेलगावी, कर्नाटक मे आयोजित अखिल भारतीय सेमिनार, अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया।


28) “डिफ़्यूसन- एक अन्य संभावित मिलिंग प्रक्रिया”- विषय पर डॉक्टर स्वेन के द्वारा दिनांक 18 अप्रैल 2015 को एन एस आई एवं- एस टी ए आई द्वारा बेलगावी, कर्नाटक मे आयोजित अखिल भारतीय सेमिनार, अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया।


अनुसंधान पत्र – मार्च, 2015 -


29) “उत्तर प्रदेश की ऊर्जा संकट को संतुलित करने मे बगास की भूमिका” विषय पर डॉक्टर स्वेन के द्वारा “एनर्जी नेक्स्ट” पत्रिका मे लेख प्रकाशित किया गया।


अनुसंधान पत्र – जनवरी, 2015 -


30) “श्वेत शर्करा रंग निर्धारक विलयन के क्षेत्र मे अत्याधुनिक विकास” विषय पर सुधांशु मोहन ने भारतीय शर्करा जर्नल के जनवरी 2015 के अंक मे लेख प्रकाशित किया।


31) “शर्करा उद्योग मे उत्पादन प्रक्रिया के दौरान ओटोमेशन प्रक्रम” विषय पर ब्रजेश सिंह, वीरेंद्र कुमार एवं एम के बनर्जी के द्वारा भारतीय शर्करा जर्नल के जनवरी 2015 के अंक मे लेख प्रकाशित किया।


32) “अल्कोहल उत्पादन मे वैकल्पिक फीडस्टोक” विषय पर संतोष कुमार एवं सीमा परोहा के द्वारा, दिनांक 21 जनवरी 2015 को एन एस आई एवं- एस टी ए आई द्वारा आयोजित अखिल भारतीय सेमिनार, नई दिल्ली मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया।


33) “भारत मे इथनोल उत्पादन : अवसर एवं चुनौतियाँ” विषय पर नरेंद्र मोहन के द्वारा दिनांक 21 जनवरी 2015 को एन एस आई एवं- एस टी ए आई द्वारा आयोजित अखिल भारतीय सेमिनार, नई दिल्ली मे अनुसंधान पत्र प्रकाशित किया गया।